दोहा और रोला

जाने कौन बात की

जे लूट रहे वाह-वाहि

निर्मोही जगत में

कौनों एक जन नाहि

मोह माया छोड़

झूठे जग को बिसारिए

खोल मन के कपाट

हरि नाम को पुकारिए

3 thoughts on “दोहा और रोला

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s