joke#

एक पति हर बात पर अपनी पत्नी को पगली कह कर संबोधित करता था। एक दिन पत्नी ने तंग कर कह दियाशादी के 20 साल हो गए है, कुछ तुम्हारा असर भी तो आना ही था।🤣🤣

ग़ज़ल

चली है झूमती पवन ज़रा चहक उठा है मन

ठहर लुभावनी घड़ी में धुन मैं गुनगुना तो लूँ

लो गा रही हैं कोयलें सुना रही नफ़्स नफस

लो सुर में सुर मिला के आज सुन मैं गुनगुना तो लूँ

है याद आ रहा कोई अब उसकी आरज़ू सजा

ये प्यास से भरे नयन को मुन मैं गुनगुना तो लूँ

मुझे तो लग गए हैं पंख छू लूँ ज़मीन आसमाँ

हज़ार से हसीन ख़्वाब बुन मैं गुनगुना तो लूँ

ये पल अगर गुज़र गया तो लौट कर न आएगा

अभी मिला मुझे जो पल को चुन मैं गुनगुना तो लूँ

आदत

पवन रति का दीवाना था। रोज़ कई दफ़ा वह रति की गलियों के चक्कर लगाता था और इस बात का इंतज़ार करता था कि रति बालकनी से झाँके और उसके चाँद से चेहरे का दीदार हो। रति को पवन पसंद था पर वह इसको मानने से कतराती थी पर पवन भी कहाँ हार मानने वाला था। उसने रति को अपना बना के ही छोड़ा। वे दोनों घर वालों से छिप कर मिलने लगे। शुरू के दिनों में वे कम मिलते थे पर धीरे-धीरे उनकी मुलाक़ातों का सिलसिला बढ़ने लगा। रति भी पवन को बेहद चाहने लगी थी। पवन की नौकरी लग गई और वह रति पर कम ध्यान देने लगा। वह सारा दिन अपने काम को ही लेकर उलझा रहता।रति ने पवन का ध्यान अपनी ओर खींचने की कोशिश की पर पवन उससे दूर होता चला गया।रति बहुत रोई। वह पवन के बिना न रह पाती थी। उसने पवन से रिश्ता जोड़े रहने में कोई कसर बाक़ी नहीं छोड़ी पर अफ़सोस। समय के साथ रति ने भी पवन को भुला दिया और उनकी प्रेम कहानी का अंत हो गया।

रति को यह अहसास हुआ कि जिसे वह इश्क समझ बैठी थी, दरअसल वह इश्क नहीं था बल्कि आदत थी। धीरे- धीरे उसे पवन की आदत लग चुकि थी और यह आदत जाते जाते ही जाती है। हम भी अक्सर जिसे प्यार समझ बैठते हैं वह प्यार नहीं बल्कि आदत है।

असली मोहब्बत तो वो है जो चौबे जी को कथ्था, चुना, सुपारी लौंग और तंबाकू वाले बनारसी पान से है। इसकी चाह में वे कितने ही वर्षों से चौरसिया पान वाले के यहाँ चक्कर लगा रहे है। अमूमन लोगों को वह ही होता है जिसे हम अंग्रेज़ी भाषा में “क्रश” कहते हैं। कल राकेश पर थी, आज मोहन पर तो कल विनोद पर होगी।

ग़ज़ल

हम दुआँ ये करें तुम मिलो हर जनम

संग बीते जो पल हमको लगते हैं कम

इल्तिजा में तेरी तेरे सर की क़सम

डोर मन्नत की कल जोड़ आए हैं हम

हम को पाने के भी कर लो कोई जतन

हो न मेरे वचन पड़ भी जाएँ न कम

डर कोई भी नहीं इस कड़ी के सिवा

हमसे बढ़ के तुम्हें माँग लेगा सनम

कोई जो छीन कर ले गया गर तुम्हें

जानेमन हम यहीं तोड़ दें अपना दम