Ghazal

आपके प्यार में दिल दिवाना हुआ

इस गली में तेरा जब से आना हुआ

सोजे उल्फत की राहों में गुमनाम था

अब तो महफ़ूज़ उसका ठिकाना हुआ

तुम मिले हमनबां तो लगा यूँ हमें

पंछियों का नए सुर में गाना हुआ

जो घंटा मेह बन के बरसता न था

बे मौसम बारिशों का जमाना हुआ

फ़र्ज़ इतना जो मुझपे इनायत करम

सर इबादत में उसके झुकाना हुआ

मेरा कुछ भी नहीं मुझमें बाक़ी रहा

मेरा अब तो सभी कुछ तुम्हारा हुआ

Ghazal

लोग जो भी गुज़र जाएँ ठहर के देखें

गर दुनिया तुम्हें मेरी नज़र से देखे

जिस गली में भी बसा है आशियाँ तेरा

लोग राहें सब उसी डगर के देखें

तेरे वजूद से हैं ये रातें रौशन

रात अंधेरों को सहर कर के देखें

यू चाहत में दिए जाने की ज़िद में

सोचा अपनी लंबी उम्र कर के देखें

नूर में तेरे जब है दवाओं सा असर

क्यूँ वो रस्ते चारागर के देखें

सूरत से चल जाता है सीरत का पता

चाह बाक़ी तेरे दिल में उतर के देखें